भाजपा सरकार पेट्रोल, डीजल के दामों में वृद्वि कर तेल कम्पनियों को फायदा पहुंचा रही है—अनिल दुबे


IMG-20170420-WA0022
लखनऊ । राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल दुबे ने केन्द्र की भाजपा सरकार पर पंूजीपतियों का हिमायती होने का आरोप लगाते हुये कहा कि केेन्द्र सरकार अन्र्तराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत पिछले तीन वर्षों से आधी होने के बावजूद पेट्रोल और डीजल के दामों में बेतहाषा वृद्वि कर तेल कम्पनियों को फायदा पहुंचाने का काम कर रही है।
आज जारी बयान में श्री दुबे ने कहा कि डीजल और पेट्रोल की कीमतों में हो रही बेतहाषा वृद्वि दरअसल भाजपा सरकार की अपनी चाल है क्योंकि पिछली सरकार के कार्यकाल में अन्र्तराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत 135 डालर प्रति बैरल होने के बावजूद पेट्रोल की कीमत 64 रूपये थी और अब 55 से 60 डालर प्रति बैरल होने के बावजूद पेट्रोल की कीमत 73 रूपये है इससे यह स्पष्ट है कि भाजपा सरकार पेट्रोलियम कम्पनियों का हित साधन करने में लगी हुयी है। जिसका प्रमाण है कि केन्द्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल को जी0एस0टी0 के दायरे से बाहर रखा है।
श्री दुबे ने कहा कि केेन्द्र की भाजपा सरकार देष की आर्थिक व्यवस्था को तहस नहस करने का काम कर रही है देष के किसानों और मजदूरों तथा आम नागरिकों को और गरीब बनाने पर तुली है क्योंकि पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं और सरकार ने इस पर नियंत्रण करने के बजाय अपने तीन साल के कार्यकाल में 11 बार इक्साइज डयूटी में वृद्वि की है। जब भारतीय जनता पार्टी विपक्ष में थी तब मंहगाई कम करने और डीजल पेट्रोल के दाम घटाने को लेकर सड़क पर उतरकर प्रदर्षन कर रही थी और कह रही थी कि उनकी सरकार आने पर अच्छे दिन आयेंगे लेकिन न तो अच्छे दिन आये और न ही मंहगाई कम हुयी।
 श्री दुबे ने केन्द्र की भाजपा सरकार को आडे हाथों लेते हुये कहा कि मोदी सरकार को जनता के साथ आंख मिचैली का खेल बंद कर देना चाहिए क्योंकि झूठे सपने दिखाकर जनता का वोट तो हासिल कर लिया लेकिन जनता के लिए कुछ भी नहीं किया बल्कि जनता को मंहगाई के बोझ तले दबाकर उसकी कमर तोड़ने पर अमादा है। सरकार को चाहिए कि तेल की कीमतों में नियंत्रण रखने के लिए कोई ठोस उपाय करें जिससे आम जनता को मंहगाई से राहत मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top