सरकार और पाक सेना के बीच मतभेद बढ़े


 

differences-between-government-and-army-increased-news-in-hindi-159673इस्लामाबाद. पाकिस्तानी सेना और सरकार के बीच अनबन की खबरें अब सार्वजनिक हो गयी हैं. दोनों मिलकर यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि हमारे बीच कोई मतभेद नहीं है लेकिन सरकार और सेना के बीच के मनमुटाव अब खुलकर सामने आने लगे हैं. पाक सेना के आर्मी चीफ राहिल शरीफ ने शुक्रवार को शीर्ष कमांडरों के साथ  हुई बैठक में इस खबर को लीक करने के लिए प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को जिम्मेदार ठहराया. हालांकि दोनों आधिकारिक तौर पर इसे नकारने में लगे हैं.

पाकिस्तानी सेना के शीर्ष अधिकारियों ने पिछले हफ्ते एक उच्च स्तरीय बैठक के दौरान आतंकवाद से निपटने को लेकर देश के सैन्य और असैन्य नेतृत्व के बीच अनबन की खबर लीक होने पर आज ‘‘गंभीर चिंता” जतायी.  खबर सामने आने के बाद उसके रिपोर्टर के देश से बाहर जाने पर रोक लगा दी गयी. सेना प्रमुख जनरल राहिल शरीफ ने रावलपिंडी जनरल हेडक्वार्टर्स में हुई कोर कमांडर कांफ्रेंस की इस बैठक की अध्यक्षता की.

सेना ने एक बयान में कहा, ‘‘प्रतिभागियों ने प्रधानमंत्री के घर पर हुई एक अहम सुरक्षा बैठक की फर्जी एवं मनगढंत खबर देने पर अपनी गंभीर चिंता जतायी और इसे राष्ट्रीय सुरक्षा का उल्लंघन माना. ” पाकिस्तान के शीर्ष अखबार डॉन ने पिछले हफ्ते अपनी एक खबर में कहा था कि हक्कानी नेटवर्क, लश्कर-ए-तैयबा और तालिबान जैसे आतंकी संगठनों को सेना के परोक्ष समर्थन को लेकर असैन्य सरकार एवं सैन्य प्रतिष्ठान के बीच तनातनी हुई थी.

खबर के बाद पत्रकार सायरिल अलमिदा के पाकिस्तान से बाहर जाने पर रोक लगा दी गयी जिससे देश के पत्रकार संघ काफी आक्रोशित हैं. प्रतिष्ठित अखबार ने ‘‘निहित स्वार्थ और गलत रिपोर्टिंग” के आरोपों को खारिज करते हुए एक संपादकीय प्रकाशित किया जिसमें कहा गया कि सरकार और सेना के बीच तनातनी से जुडी अलमिदा की खबर ‘‘विधिवत सत्यापित की गयी है और यह पूरी तरह सही रिपोर्टिंग है.”  प्रधानमंत्री के कार्यालय ने गत छह अक्तूबर को खबर आने के बाद से दोनों प्रतिष्ठानों के बीच किसी तरह की अनबन से लगातार इनकार किया है. सेना ने कहा कि आज की बैठक में प्रतिभागियों ने नियंत्रण रेखा के माहौल और सेना की अभियान संबंधी तैयारी पर खास ध्यान देते हुए आतंरिक एवं बाहरी सुरक्षा की स्थिति की व्यापक समीक्षा की.

पाकिस्तान ने आलोचना के बाद पत्रकार की यात्रा पर लगी रोक हटायी- पाकिस्तान ने देश के एक प्रमुख पत्रकार की विदेश यात्रा पर लगी रोक आलोचनाओं के बाद आज हटा ली जिसने देश में आतंकवादी समूहों को शक्तिशाली आईएसआई के परोक्ष समर्थन को लेकर सरकार और सैन्य नेतृत्व के बीच एक दरार पडने की खबर दी थी. डान समाचारपत्र के पत्रकार सायरिल अलमिदा पर यात्रा प्रतिबंध लगाने को लेकर मीडिया घरानों, पत्रकार संगठनों एवं नागरिक समाज की ओर से सरकार एवं सेना की व्यापक आलोचना की गई थी. अलमिदा का नाम इस सप्ताह ‘निकास नियंत्रण सूची’ :एक्जिट कंट्रोल लिस्ट: में डाल दिया गया था जब उन्होंने आतंकवादियों को आईएसआई के समर्थन को लेकर सेना और सरकार के बीच मौखिक टकराव होने की खबर दी थी.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top