जन औषधि केन्द्रों पर जल्द 60 प्रतिशत से कम दामों पर दवाएं, यूपी में पहले चरण में 1000 खुलेंगे केन्द्र


20690003_1894978944156635_7905009199204246315_o

लखनऊ। प्रदेश में जेनरिक औषधियों की उपलब्धता सुगमता से सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना को लागू की जाएगी। इस आशय के एक एम.ओ.यू. पर आज हस्ताक्षर किए गए। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह तथा केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक राज्यमंत्री श्री मनसुख एल. मन्दाविया की उपस्थित में ‘साचीज’ के मुख्य कार्यपालक अधिकारी तथा बी.पी.पी.आई. के मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने इस एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर किये। इस मौके पर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंह ने इस परियोजना की वेबसाइट का भी शुभारम्भ किया।

इस अवसर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना के प्रदेश में लागू हो जाने से राज्य की जनता को सस्ती दरों पर उच्च गुणवत्ता युक्त दवायें उपलब्ध हों सकेंगी। राज्य सरकार प्रदेश में जेनरिक दवाओं को बढ़ावा देने के लिए सतत् प्रयत्नशील है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में प्रथम चरण में 1000 सरकारी अस्पतालों एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर जन औषधि भण्डार खोलेगी, जिनमें से 400 से अधिक जन औषधि भण्डारों का आवंटन किया जा चुका है। इसी योजना के तहत पोस्ट आफिस तथा बस स्टैण्ड जैसे सार्वजनिक स्थानों पर 3000 जन औषधि स्टोर खोलने की योजना है। उन्होंने बताया कि केन्द्र और राज्य सरकार आपसी सहयोग से प्रदेश की जनता को सस्ती दरों पर न केवल दवायें उपलब्ध कराने के प्रयास किये जा रहें हैं, अपितु अधिक से अधिक संख्या में जेनरिक दवाओं की बिक्री हेतु स्टोर खोलने पर भी बल दिया जा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि भारत में अभी तक 2500 जन औषधि केन्द्र खोले जा चुके हैं। प्रदेश के अन्दर 1000 जन औषधि केन्द्र खुलने से बेरोजगार फार्मेसिस्टों को व्यापक स्तर पर रोजगार मिलेगा। साथ ही जन औषधि केन्द्र के आवंटन में फार्मासिस्टों को वरीयता भी दी जाएगी। उन्होंने बताया कि कैंसर रोगियों को पैसीटाक्सल के 100 एम0जी0 का इंजेक्शन 3450 रुपये में मिल रहा था, अब यह इंजेक्शन इन केन्द्रों पर मात्र 540 रुपये में मिलेगा। इसके अलावा एंटीबायोटिक दवाओं के मूल्य में भी काफी कमी आयेगी। एजिथ्रो माइसीन 500 एम.जी. की एंटीबायोटिक टेबलट जिसका बाजार भाव 178 रुपये है, यह दवा औषधि केन्द्रों पर मात्र 86 रुपये में सुलभ होगी। निमुस्लाइड जिसका मूल्य 39 रुपये है, यह दो रुपये पचास पैसे में आम लोगों के लिए उपलब्ध होगी।

इस अवसर पर प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव प्रशांत त्रिवेदी, प्रमुख सचिव सूचना अवनीश अवस्थी सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्रीमती वी.हेकाली झिमोमी सहित चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहें।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top