तम्बाकू मुक्त लखनऊ’ अभियान में विद्यार्थी और युवा महत्वपूर्ण भूमिका: राज्यपाल


20506900_1890145644639965_3462090774871804509_o

लखनऊ। उत्तर प्रदेष के राज्यपाल श्री राम नाईक ने आज गांधी भवन सभागार में विनोबा सेवा आश्रम द्वारा ‘टोबैको फ्री लखनऊ’ अभियान का षुभारम्भ किया। इस अवसर पर विधान सभा अध्यक्ष श्री हृदय नारायण दीक्षित, अध्यक्ष गांधी स्वाध्याय केन्द्र श्री राम प्यारे त्रिवेदी, कैम्पेन फाॅर टोबैको फ्री किड्स वाषिगंटन संस्था के अध्यक्ष श्री मैथ्यू एल0 मायर्स, साउथ एषिया की निदेषक सुश्री वंदना षाह, जमनालाल बजाज पुरस्कार से सम्मानित श्रीमती विमला सहित अन्य गणमान्य नागरिक व छात्र-छात्रायें उपस्थित थीं।

राज्यपाल ने ‘टोबैको फ्री लखनऊ’ अभियान की प्रषंसा करते हुए कहा कि सब मिलकर लखनऊ को तम्बाकू मुक्त बनाने का संकल्प लें। लखनऊ देष की सांस्कष्तिक राजधानी है। सांस्कष्तिक नगरी लखनऊ तम्बाकू मुक्त होगी तो यह संदेष जायेगा कि जब लखनऊ तम्बाकू मुक्त हो सकता है तो उत्तर प्रदेष भी हो सकता है और जब उत्तर प्रदेष तम्बाकू मुक्त हो सकता है तो पूरा देष तम्बाकू मुक्त हो सकता है। तम्बाकू के प्रयोग को रोकने के लिए केवल कानून बनाना पर्याप्त नहीं है। लोगों का प्रबोधन जरूरी है। तम्बाकू से स्वयं के साथ-साथ परिवार और समाज का भी नुकसान होता है। उन्होंने कहा कि तम्बाकू मुक्ति के लिए बच्चों में अच्छे संस्कार डालें।

श्री नाईक ने आचार्य विनोबा भावे को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उन्होंने आचार्य विनोबा भावे को देखा भी है और उनके प्रवचन को सुना भी है। विनोबा भावे ने ‘भूदान’ आन्दोलन के माध्यम से देष का परिवर्तन किया है। केन्द्र सरकार ने तम्बाकू के नुकसानदेह प्रभावों और दूसरों के धुंए से बचाने के लिए भारत में ‘सिगरेट और अन्य तम्बाकू उत्पाद कानून (सीओटीपीए) कोटपा 2003’ लागू किया गया था। राज्यपाल ने तम्बाकू को लेकर अपने अनुभव साझा करते हुए बताया कि जब वे रेल मंत्री थे तो उन्होंने प्लेटफार्म पर बीड़ी, सिगरेट की बिक्री पर पाबंदी लगाने का कानून बनाया था। मुंबई में लगभग 76 लाख लोग रेल से सफर करते हैं। बीड़ी-सिगरेट से महिलाओं व दूसरे सहयात्रियों को दिक्कत होती थी। उन्होंने कहा कि तम्बाकू के प्रयोग से कैंसर रोग में वुद्धि हुई है। राज्यपाल ने समारोह में बांटी गयी प्रचार सामग्री जिस पर लिखा हुआ था कि ड्रीम फाॅर टोबैको फ्री लखनऊ, को पूर्व राश्ट्रपति डाॅ0 कलाम के कथन से जोड़ते हुए कहा कि डाॅ0 कलाम ने कहा था सपने वो होते हैं जो पूरा होने से पहले आपको सोने न दें। उन्होंने कहा कि तम्बाकू मुक्त लखनऊ बनाने के लिए विनोबा सेवा आश्रम द्वारा जो सपना देखा गया है, लक्ष्य जब तक पूरा न हो जाए तब तक अभियान को निरन्तर जारी रखना चाहिए।

उन्होंने कहा कि इस अभियान में विद्यार्थी और युवा महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं।विधान सभा अध्यक्ष श्री हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि तम्बाकू मुक्त लखनऊ एक बड़ा विशय है जिस पर विनोबा सेवा आश्रम द्वारा चर्चा की जा रही है। भारतीय संस्कष्ति में जागरण पर बहुत जोर दिया गया है। उन्होंने जागरण को जागरूकता का विशय बताते हुए कहा कि समाज में तम्बाकू के प्रयोग के प्रति उदासीनता है जो विचार का विशय है। हर व्यक्ति तम्बाकू के दुश्परिणाम को जानता है लेकिन उससे छुटकारा नहीं पा पाता। उन्होंने कहा कि तम्बाकू का प्रयोग लोक जागरण से जुड़ा मामला है जिसका समाधान समाज ही निकाल सकता है।कैम्पेन फाॅर टोबैको फ्री किड्स वाषिगंटन संस्था के अध्यक्ष श्री मैथ्यू एल0 मायर्स ने कहा कि तम्बाकू प्रयोग के नियंत्रण के लिए मजबूत नेतष्त्व की आवष्यकता है। विष्व में 70 लाख लोग कैंसर से प्रतिवर्श मष्त्यु को प्राप्त होते हैं जिसमें केवल भारत में 10 लाख लोग षामिल हैं। भारत बदल रहा है। तम्बाकू मुक्ति को बदलाव का मुद्दा बनाकर आगे लाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि तम्बाकू मुक्त समाज के लिए जनता की सहभागिता सुनिष्चित की जाए।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Scroll To Top